Sunday, December 29, 2013

Zindagi Teri Yaad Me

जिंदगी तेरी याद मे जिए जा रहा हूँ,
गमों को पानी की तरह पिए जेया राहा हूँ|

गम के झरोखे में-
खुशियों के दो फूल खिले थे,
पर क्या कहूँ! तेरे बिना यहाँ..
वो भी राश ना आया|
कोशिस तो बहोट की जीने की मगर..
फिर भी, निराशा ही हाथ आया|

अब तो यह हाशीन तोहफा लिए जा रहा हूँ,
जिंदगी तेरी याद मे जिए जा रहा हूँ|